Tuesday, February 23, 2010

जानकी माँ

माँ की मूरत
ममता की सूरत ,
ममत्व का प्रतिरूप
जानकी माँ ।

प्यार से सहलातीं
स्नेह से दुलरातीं
सरल, सरस मनोभाव की काया
कर्मयोगिनी जानकी माँ ।

हाथ में न कोई मनका
न सर पर कोई ताज
पर फिर भी रानी हैं वो
सच पूछो तो महारानी हैं वो ।

सब नतमस्तक होते हैं
बार-बार शीश झुकाते हैं
कुछ ऎसी प्यारी हैं
हम सब की जानकी माँ ।

(जानकी माँ को समर्पित जिन्होंने अजनबी होकर भी मुश्किल के समय माँ की तरह मुझे स्नेह-दुलार दिया)


3 comments:

  1. जानकी माँ को नमन!

    ReplyDelete
  2. mama ji kahn per ho. aaj kal aap phone bhi nahi kar rahe ho
    From : Dheeraj Mishra
    9873082098

    ReplyDelete